साक्षात्कार

स्टिंग का दावा- फिक्स थे 15 मैच, ECB-CA ने आरोपों को किया खारिज

1View

कोलंबो
अल जजीरा चैनल ने एक डॉक्यूमेंट्री में दावा किया है कि 2011 और 2012 में कुल 15 मैच में 26 मौकों पर स्पॉट फिक्सिंग हुई थी. अल जजीरा चैनल ने रविवार को कथित मैच फिक्सर अनील मुनवर की डॉक्यूमेंटरी को जारी किया है. जिसमें दावा किया गया है, कि इंग्लैंड के खिलाड़ियों द्वारा सात मैचों में, ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों द्वारा पांच मैचों में, पाकिस्तान के खिलाड़ियों द्वारा तीन मैचों में व अन्य टीमों द्वारा एक मैच में स्पॉट फिक्सिंग की गई हैं.

बता दें कि अल जजीरा पर जो डॉक्यूमेंट्री प्रसारित हुई, उसका नाम 'क्रिकेट के मैच फिक्सर्स: द मुनवर फाइल्स' है. डॉक्यूमेंट्री के मुताबिक 2011 में भारत-इंग्लैंड के बीच खेला गया लॉर्ड्स टेस्ट, इस साल दक्षिण अफ्रीका-ऑस्ट्रेलिया का केपटाउन टेस्ट भी शक के घेरे में है. 2011 विश्व कप के 5 और 2012 वर्ल्ड टी20 के तीन मैचों में भी फिक्सिंग का दावा किया गया है. इसमें 2012 में यूएई में इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच हुए तीन टेस्ट मैचों में हुई सफल स्पॉट फिक्सिंग का भी जिक्र किया गया है.

डॉक्यूमेंट्री में दिखाया गया है कि अनील मुनवर ने इंग्लैंड के एक खिलाड़ी को 2011 में कॉल किया और कहा- एशेज के लिए मुबारक हो. आपके अकाउंट में बकाया रकम एक सप्ताह में पहुंच जाएगी. इसके जवाब में प्लेयर कहता है- शानदार. हालांकि जब इस क्रिकेटर (जिसका नाम नहीं बताया गया) से पूछा गया तो उन्होंने साफ तौर पर इनकार किया और इस ऑडियो को 'झूठा' करार दिया.

अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री में पाक क्रिकेटर उमर अकमल का 'डी कंपनी' के एक सदस्य के साथ दुबई में इंग्लैंड के खिलाफ मैच से ठीक पहले एक होटल में मिलने का भी खुलासा हुआ. इसमें अकमल 'डी कंपनी' के सहयोगी व एक अन्य के साथ फोटो खिंचाते और एक बैग में कुछ देखते हुए नजर आए.

अकमल ने जून 2018 में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट को एक फिक्सर द्वारा संपर्क किए जाने की जानकारी दी थी. इसमें उन्होंने हांगकांग सिक्सेज टूर्नामेंट, दक्षिण अफ्रीका से सीरीज और 2015 विश्व कप में भारत के खिलाफ मुकाबले से पहले फिक्सर के संपर्क करने की शिकायत की थी. उन्होंने बताया कि हांगकांग सिक्सेज टूर्नामेंट के दौरान दो गेंद बिना रन बनाए खेलने पर दो लाख डॉलर देने का ऑफर दिया गया था.

आईसीसी की ऐंटी करप्शन यूनिट के जनरल मैनेजर एलेक्स मार्शल ने कहा कि क्रिकेट की यह वैश्विक संस्था मामले की पूरी जांच करेगी. उन्होंने कहा, 'हम इस डॉक्यूमेंट्री के कॉन्टेंट को फिर से देखेंगे और हर तरह के आरोपों की जांच की जाएगी. हमारे पास खेल से भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए पहले से काफी ज्यादा संसाधन हैं.'

ईसीबी के एक प्रवक्ता ने कहा, 'ईसीबी भ्रष्टाचार विरोधी और क्रिकेट की अखंडता को बहुत गंभीरता से बचाने पर अपनी जिम्मेदारियां लेता है. जबकि अल जजीरा द्वारा हमें दी गई सीमित जानकारी खराब तरीके से तैयार की गई है और इसमें स्पष्टता और पुष्टि की कमी है, इसका उचित मूल्यांकन किया जाना चाहिए. हमें अपने पूर्व क्रिकेट व वर्तमान क्रिकेटर दोनों पर पूरा भरोसा हैं, हमने हमेशा आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट के साथ मिलकर काम किया हैं और उसे सहयोग किया हैं और हम पीसीए के साथ मिलकर भी काम कर रहे हैं.'

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा, 'क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया खेल में भ्रष्टाचार लाने वाले के साथ हमेशा कड़ा व्यवहार अपनाता हैं. अगर हमें लगता हैं, कुछ भी असंतुलित और गलत है, तो हम उसके सख्त खिलाफ रहते हैं. लेकिन हमें नहीं लगता की अल जज़ीरा की रिपोर्ट सही नहीं हैं. हमें हमारे खिलाड़ियों में पूरा भरोसा है, और हम किसी भी विकास के बारे में सूचित रखने के लिए अपनी एंटी करप्शन यूनिट एसीए के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.'