छत्तीसगढ़

बाल मित्र करेंगे बच्चों के अधिकारों की रक्षा: श्रीमती प्रभा दुबे 

4Views

रायपुर 

छत्तीसगढ़ में बाल मित्र राज्य की अवधारणा को साकार करने के उददेश्य से राज्य बाल संरक्षण आयोग द्वारा आज भिलाई के कल्याण स्नातकोत्तर महाविद्यालय में एक दिवसीय संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में आयोग की अध्यक्ष श्रीमती प्रभा दुबे ने महाविद्यालय के प्राध्यापकों और विद्यार्थियों को बाल मित्र के रूप में शपथ दिलाई। कार्यशाला को संबोधित करते हुए श्रीमती दुबे ने कहा कि बाल मित्र के रूप में आप सभी की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण और जिम्मेदारी भरी है। बच्चों के प्रति हम सब को अपने रवैये में बदलाव लाना होगा। उनसे बातचीत के तरीके भी बदलने होंगे। बच्चा घर और स्कूल दोनों में सुरक्षित रहे इसलिए हमें बच्चों का विश्वास जीत कर उनके पालक और अभिभावक होने के साथ-साथ एक मित्र की भूमिका भी निभानी होगी। तभी बच्चे अपने मन की बात बिना डर और हिचक के साझा करेंगे। अपने आस-पास हो रही छोटी-छोटी घटनाओं के प्रति भी हमें संवेदनशीलता दिखानी होगी। कई बार हमारी छोटी सी लापरवाही और अनदेखी से गम्भीर घटनाएं हो जाती है। इसलिए आप सभी बाल मित्रों को सजग रहना होगा।
कार्यशाला में किशोर न्याय अधिनियम 2015 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 पर विस्तार से चर्चा की गई। एकीकृत बाल संरक्षण योजना और बच्चों से जुड़ी शासन की अन्य योजनाओं का जिला बाल संरक्षण ईकाई द्वारा प्रस्तुतिकरण भी दिया गया। कार्यशाला में विषय विशेषज्ञ द्वारा बाल मनोविज्ञान की बारीकियों पर विस्तृत चर्चा की गईं । कार्यशाला में आयोग की सदस्य श्रीमती इंदिरा जैन, श्रीमती मीनाक्षी तोमर, श्री नंदलाल चौधरी, महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए.आर.वर्मा और प्राध्यापकों सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी मौजूद थे।